गुरुवार, दिसंबर 27, 2012

इच्छा-शक्ति

सबसे बड़ी दिक्कत तो ये है कि हमारे देश में अच्छे से अच्छा कानून भी सदुपयोग की बजाय दुरूपयोग ही होता है। 
दहेज़, अनुसूचित-जाति , जन-जाति, भूमि-सुधार, POTA,रासुका, यहाँ तक कि सूचना का अधिकार और रोज़गार-गारंटी जैसे पवित्र क़ानूनों का भी, प्रभावशाली, समाज के ठेकेदार और सत्ताभोगी तो जमकर दूसरों के विरुद्ध दुरुपयोग करते हैं; और अपने बचाव के लिए पतली गलियाँ निकाल ही लेते हैं। पिछले 65सालों  के इतिहास में अत्याचार करने वाले, शासक दल और समाज में प्रतिष्ठित कहलाने ठेकेदार वाले ही रहे हैं . 

1972 का स्टेट बैंक कांड, 1984 में दिल्ली के दंगे हों; JESIKA LAL, तंदूर-कांड, BOFORCE , G-2, भंवरी-कांड, गोपाल कांडा -कांड,  हर्षद मेहता-कांड, कोयला-कांड, चारा-कांड, ताज-कॉरिडोर कांड, खेल-कार्ड, एक से एक बढ़कर उदाहरण है। इन सब में समाज और देश के कर्णधारों का ही हाथ रहा है। 

अपने-आप को समाज और देश का पुरोधा समझने वाले राम जेठमलानी जैसे लोग आतंकियों और अत्याचारियों की पैरवी करने को लालायित रहते हों तो समाज भय-मुक्त कैसे होगा ?

बलात्कारी का बधियाकरण सुविचारित सुझाव है; किंतु इसका दुरुपयोग भोले और निष्कपट लोगों को तबाह करने में ही किया जायेगा; यह निश्चित है। 

हमें आवश्यकता है,दृढ़ इच्छा-शक्ति के साथ समाज को अच्छी दिशा देने की। जिसमे हम विफल रहे हैं, क्योंकि हम में इच्छा-शक्ति तो है, ही नहीं। जब तक हम अपनी संस्कृति और सभ्यता का उत्थान नहीं करेंगे; सिर्फ क़ानूनों से कुछ होने वाला नहीं है; उल्टा बंदर के हाथ एक और उस्तरा थमा देंगे।   

जय-भारत का नारा,जुबां की बजाय; 
हम दिल में रखें,  तो  कोई बात बने। 

धर्म की जय हो अधर्म का नाश हो
प्राणियों में सद्भाव हो; विश्व का कल्याण हो 
http://apnykhunja.blogspot.in/2010/08/justice.html
BE BOLD; IN WHAT YOU, STAND FOR !
www.apnykhunja.blogspot.com; www.apnybaat.blogspot.com;
www.apnyvaani.blogspot.com; www.apnykatha.blogspot.com;
My Location at Globe 74.2690 E; 29.6095N

2 टिप्‍पणियां:

  1. From: "Mundwanews Channel" <notification+zrdovrrggo11@facebookmail.com>
    Date: Dec 27, 2012 4:46 PM

    Mundwanews Channel commented on your post in mundwa news channel.

    Mundwanews Channel
    4:46pm Dec 27
    aap jo baat kahna ccha rahe hain sayad main samaj raha hoon....aapke kahne ka matlab hai...in dino jo howa...delhi wala kais.....agar unn logon ko fansi ki saza di jaye...to sayad aane wale sino main iss kanoon ka sahara lekar khuch log fayda uthayenge...or kai begunahoon ko fasa lenge...yahi sab sochkar to sarkaar bhi sakte main hai....sayad koi hal nikal jaye....

    उत्तर देंहटाएं
  2. From: "Facebook" <update+zrdovrrggo11@facebookmail.com>
    Date: Dec 28, 2012 10:38 PM
    Subject: Vikas Sharma Belwal commented on your link.
    To: "Ashok Kumar Khatri" <nmlaku@gmail.com>

    facebook

    Vikas Sharma Belwal commented on your link.
    Vikas wrote: "Great thoughts.."

    उत्तर देंहटाएं